रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ
अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष

मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ

रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए
temple venue
शक्तिपीठ माँ कामाख्या मंदिर, गुवाहाटी, असम
pooja date
27 जून, गुरुवार, आषाढ़ कृष्ण षष्ठी
पूजा बुकिंग बंद होने में शेष समय:
Day
Hour
Min
Sec
slideslideslide
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
अब तक2,00,000+भक्तोंश्री मंदिर द्वारा आयोजित पूजाओ में भाग ले चुके हैं

रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति के लिए अम्बुबाची मेला: मंदिर पुनरारंभ विशेष मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ

🛕मंदिर के कपाट खुलने के बाद पहली पूजा🌸

अंबुबाची मेला एक वार्षिक मेला है जो कि तंत्र और शक्ति की उपासना का विशेष पर्व माना गया है। यह हर वर्ष जून माह में मनाया जाता है। ऐसा मानना है कि दुनियाभर में जो तंत्र साधनाएं सफल नहीं होती हैं वो इस दौरान यहां आकर पूरी की जाती हैं, यही कारण है कि यहां देश-विदेश से श्रद्धालु दर्शन को आते हैं। प्रचलित कथा के अनुसार, कामाख्या देवी के रजस्वला होने की खुशी में अंबुबाची मेला मनाया जाता है, जो कि तीन दिन तक चलता है। इस दौरान मंदिर का कपाट बंद रहता है, मंदिर दोबारा खुलने के बाद पहली पूजा का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें माता विश्राम के बाद अपनी नई ऊर्जा के साथ भक्तों को जीवन में नवीनीकरण का आशीष देती हैं। तंत्र मंत्र की देवी मां कामाख्या को शक्ति का प्रतीक माना जाता है।

मान्यता है कि इस दौरान देवी की पूजा करने से हजार गुना अत्यधिक फल की प्राप्ति होती है। जो भक्त इस दौरान मंदिर में दर्शन को नहीं पहुंच पाते वो इस पूजा के साथ अभिमंत्रित की हुई वस्तुओं को अपने घर पर रख सकते हैं। माना जाता है कि इस दौरान माता के तीर्थक्षेत्र से अभिमंत्रित हुई वस्तुओं को अपने घर में रखने से सुख, समृद्धि एवं खुशहाल वैवाहिक जीवन का आशीष प्राप्त होता है साथ ही सकारात्मक एवं दिव्य ऊर्जा का अनुभव भी होता है। मंदिर पुन: खुलने के अवसर पर इस पहली पूजा का लाभ उठाने के लिए श्री मंदिर द्वारा मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ में भाग लें और देवी कामाख्या से रिश्तों में विवादों से मुक्ति एवं असीम प्रेम प्राप्ति का आशीष पाएं।

पूजा लाभ

puja benefits
रिश्तों में विवादों से मुक्ति
मान्यता है कि भव्य तंत्र महोत्सव के बाद मंदिर के पुन: खुलने पर मां कामाख्या की इस पूजा को करने से रिश्तों में उत्पन्न विवाद दूर हो जाते हैं और खुशहाली आती है, जिससे पार्टनर या फिर परिवार के सदस्यों के बीच सुखी, सामंजस्य पूर्ण एवं गहरे रिश्ते का निर्माण होता है।
puja benefits
असीम प्रेम की प्राप्ति
इस शुभ अवसर पर माँ कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ को कराने से देवी कामाख्या की कृपा से आपके एवं जीवनसाथी के बीच चल रहे तनावपूर्ण संबंध दूर होते हैं और असीम प्रेम की प्राप्ति होती है, जिससे वैवाहिक जीवन में उमंग, प्रेम और उल्लास छा जाता है।
puja benefits
मनोकामना पूर्ति
अम्बुबाची मेला के शुभ अवसर पर मां कामाख्या तंत्र युक्त महायज्ञ करने से भक्तों को किसी भी प्रकार की मनोकामना पूर्ण करने में आने वाले बाधाएं दूर होती हैं। मान्यता है कि इस दौरान मां कामाख्या तीर्थक्षेत्र से देवी की अभिमंत्रित तस्वीर अपने घर पर लाने से भक्तों को सभी कष्टों से मुक्त कर देवी मनोकामना पूर्ति का आशीष देती हैं।
puja benefits
अपार धन समृद्धि की प्राप्ति
मान्यता है कि मां कामाख्या के आह्वान से आर्थिक समृद्धि के समस्त द्वार खुल जाते हैं व भक्तों को चारों दिशाओं से धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। इससे आमदनी में बढ़ोत्तरी होती है और जीवन में धन और सफलता को आकर्षित करने में मदद मिलती है। माना जाता है कि इस शुभ दिन पर अभिमंत्रित कामाख्या यंत्र लाकर अपने घर पर रखने से अपार धन समृद्धि का आशीष मिलता है।

पूजा प्रक्रिया

Number-0

पूजा चयन करें

4 विभिन्न पूजा पैकेज ऑप्शन से चयन करें।
Number-1

अर्पण जोड़ें

अपनी पूजा के साथ गौ सेवा, वस्त्र दान, दीप दान भी करें। पूजा के लिए भुगतान करें।
Number-2

संकल्प विवरण दर्ज करें

अपना नाम और गोत्र दर्ज करें।
Number-3

लाइव परिक्रमा

यज्ञ के दिन सुबह 6 बजे मंदिर की लाइव परिक्रमा से जुड़ने के लिए आपके साथ एक लिंक शेयर किया जाएगा।
Number-4

नाम एवं गोत्र का उच्चारण

मंदिर परिसर में नाम एवं गोत्र का उच्चारण किया जाएगा और संकल्प पत्र को पूजा के लिए गर्भगृह के अंदर ले जाया जाएगा। पंडित जी द्वारा किए गए इस पूजा का अपडेट आपके व्हाट्सएप नंबर पर शेयर किया जाएगा।
Number-5

यज्ञशाला में यज्ञ:

पंडित जी आपका यज्ञ यज्ञशाला में संपन्न करेंगे, जिसका 5 मिनट का अंश आपके साथ शेयर किया जाएगा।

शक्तिपीठ माँ कामाख्या मंदिर, गुवाहाटी, असम

शक्तिपीठ माँ कामाख्या मंदिर, गुवाहाटी, असम
गुवाहाटी में विराजित मां कामाख्या देवी हैं, जो शक्ति या दिव्य नारी ऊर्जा का प्रतीक हैं। देवी कामाख्या साहस, सहिष्णुता और मानसिक ऊर्जा बढ़ाने, संतानहीनता और दांपत्य जीवन से जुड़ी समस्याओं से निवारण एवं मनोकामना पूर्ति के लिए पूजनीय मानी हैं। शक्तिपीठ कामाख्या तीर्थ क्षेत्र, 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां देवी सती की 'योनि' पृथ्वी पर गिरी थी तब से माता यहीं कामाख्या के रूप में वास करती हैं। यह एक प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है और यहाँ के साधु, सन्यासी और खासकर तांत्रिकों के लिए तपस्या का स्थल माना जाता है, जो देवी के आशीर्वाद के लिए मंदिर का दौरा करते हैं।


प्रतिवर्ष यहाँ अम्बुबाची मेला लगता है, जिस दौरान कामाख्या देवी मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं तथा कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। मान्यता के अनुसार, अम्बुबाची मेले के दौरान 3 दिनों तक माता कामाख्या का मासिक धर्म चलता है, जिससे मंदिर के पीछे बहने वाली ब्रह्मपुत्र नदी का जल भी लाल रंग का हो जाता है। मान्यता है की इस पावन अवसर पर जो भी भक्त यहां से अभिमंत्रित वस्तुओं को अपने घर पर रखता है उसे पूरे वर्ष सुख समृद्धि का आशीष प्राप्त होता है।

पूजा का चयन करें

999

व्यक्तिगत पूजा

अधिकतम 1 व्यक्ति के लिए पूजा कराएं

21 से 27 तारीख तक सुबह 6 बजे IST कामाख्या शक्तिपीठ की दैनिक लाइव परिक्रमा में शामिल हों।
21 से 27 तारीख तक अंबुबाची समारोह के वीडियो अंश प्रतिदिन आपके साथ साझा किए जाएंगे।
आपके नाम एवं गोत्र संकल्प के साथ आपकी पूजा गर्भगृह के अंदर की जाएगी। हालांकि मंदिर के अधिकारियों द्वारा गर्भगृह के अंदर वीडियो रिकॉर्डिंग की सख्त मनाही है।
मंदिर परिसर में की गई पूजा एवं यज्ञ का वीडियो आपके नाम-संकल्प के साथ इसके पूरा होने पर आपके साथ शेयर किया जाएगा।
हम आपके पंजीकृत व्हाट्सएप नंबर पर पूजा वीडियो शेयर करेंगे, या फिर आप इसे अपनी बुकिंग हिस्ट्री में भी देख सकते हैं।
शक्ति पीठ माँ कामाख्या क्षेत्र से आपके द्वारा चुने गए तीर्थ प्रसाद जैसे पंचमेवा, अभिमंत्रित चुनरी, सिंदूर, रक्षा सूत्र एवं चुने हुए अन्य अभिमंत्रित वस्तुएं आपके पते पर 15-20 दीनो के अंदर भेजे जाएंगे।

1501

पार्टनर पूजा

अधिकतम 2 व्यक्ति के लिए पूजा कराएं

21 से 27 तारीख तक सुबह 6 बजे IST कामाख्या शक्तिपीठ की दैनिक लाइव परिक्रमा में शामिल हों।
21 से 27 तारीख तक अंबुबाची समारोह के वीडियो अंश प्रतिदिन आपके साथ साझा किए जाएंगे।
आपके नाम एवं गोत्र संकल्प के साथ आपकी पूजा गर्भगृह के अंदर की जाएगी। हालांकि मंदिर के अधिकारियों द्वारा गर्भगृह के अंदर वीडियो रिकॉर्डिंग की सख्त मनाही है।
मंदिर परिसर में की गई पूजा एवं यज्ञ का वीडियो आपके नाम-संकल्प के साथ इसके पूरा होने पर आपके साथ शेयर किया जाएगा।
हम आपके पंजीकृत व्हाट्सएप नंबर पर पूजा वीडियो शेयर करेंगे, या फिर आप इसे अपनी बुकिंग हिस्ट्री में भी देख सकते हैं।
शक्ति पीठ माँ कामाख्या क्षेत्र से आपके द्वारा चुने गए तीर्थ प्रसाद जैसे पंचमेवा, अभिमंत्रित चुनरी, सिंदूर, रक्षा सूत्र एवं चुने हुए अन्य अभिमंत्रित वस्तुएं आपके पते पर 15-20 दीनो के अंदर भेजे जाएंगे।

2501

पारिवारिक पूजा

अधिकतम 4 सदस्यों के लिए पूजा कराएं

21 से 27 तारीख तक सुबह 6 बजे IST कामाख्या शक्तिपीठ की दैनिक लाइव परिक्रमा में शामिल हों।
21 से 27 तारीख तक अंबुबाची समारोह के वीडियो अंश प्रतिदिन आपके साथ साझा किए जाएंगे।
आपके नाम एवं गोत्र संकल्प के साथ आपकी पूजा गर्भगृह के अंदर की जाएगी। हालांकि मंदिर के अधिकारियों द्वारा गर्भगृह के अंदर वीडियो रिकॉर्डिंग की सख्त मनाही है।
मंदिर परिसर में की गई पूजा एवं यज्ञ का वीडियो आपके नाम-संकल्प के साथ इसके पूरा होने पर आपके साथ शेयर किया जाएगा।
हम आपके पंजीकृत व्हाट्सएप नंबर पर पूजा वीडियो शेयर करेंगे, या फिर आप इसे अपनी बुकिंग हिस्ट्री में भी देख सकते हैं।
शक्ति पीठ माँ कामाख्या क्षेत्र से आपके द्वारा चुने गए तीर्थ प्रसाद जैसे पंचमेवा, अभिमंत्रित चुनरी, सिंदूर, रक्षा सूत्र एवं चुने हुए अन्य अभिमंत्रित वस्तुएं आपके पते पर 15-20 दीनो के अंदर भेजे जाएंगे।

3501

संयुक्त परिवार पूजा

अधिकतम 6 सदस्यों के लिए पूजा कराएं

21 से 27 तारीख तक सुबह 6 बजे IST कामाख्या शक्तिपीठ की दैनिक लाइव परिक्रमा में शामिल हों।
21 से 27 तारीख तक अंबुबाची समारोह के वीडियो अंश प्रतिदिन आपके साथ साझा किए जाएंगे।
आपके नाम एवं गोत्र संकल्प के साथ आपकी पूजा गर्भगृह के अंदर की जाएगी। हालांकि मंदिर के अधिकारियों द्वारा गर्भगृह के अंदर वीडियो रिकॉर्डिंग की सख्त मनाही है।
मंदिर परिसर में की गई पूजा एवं यज्ञ का वीडियो आपके नाम-संकल्प के साथ इसके पूरा होने पर आपके साथ शेयर किया जाएगा।
हम आपके पंजीकृत व्हाट्सएप नंबर पर पूजा वीडियो शेयर करेंगे, या फिर आप इसे अपनी बुकिंग हिस्ट्री में भी देख सकते हैं।
शक्ति पीठ माँ कामाख्या क्षेत्र से आपके द्वारा चुने गए तीर्थ प्रसाद जैसे पंचमेवा, अभिमंत्रित चुनरी, सिंदूर, रक्षा सूत्र एवं चुने हुए अन्य अभिमंत्रित वस्तुएं आपके पते पर 15-20 दीनो के अंदर भेजे जाएंगे।

कैसा रहा श्री मंदिर पूजा सेवा का अनुभव?

क्या कहते हैं श्रद्धालु?
User review
User Image

जय राज यादव

दिल्ली
User review
User Image

रमेश चंद्र भट्ट

नागपुर
User review
User Image

अपर्णा मॉल

पुरी
User review
User Image

शिवराज डोभी

आगरा
User review
User Image

मुकुल राज

लखनऊ
User review
User Image

सुनील कुमार सैनी

चंडीगढ़

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों