नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ
उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष

माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ

नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए
temple venue
शक्तिपीठ मां कामाख्या मंदिर एवं विक्रांत भैरव मंदिर, गुवाहाटी, उज्जैन
pooja date
Warning Infoइस पूजा की बुकिंग बंद हो गई है
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
srimandir devotees
अब तक2,00,000+भक्तोंश्री मंदिर द्वारा आयोजित पूजाओ में भाग ले चुके हैं

नकारात्मक ऊर्जाओं एवं बाधाओं से सुरक्षा के लिए उज्जैन एवं कामाख्या तीर्थक्षेत्र विशेष माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ

हिंदू धर्म में अष्टमी तिथि का बेहद महत्व है, यह तिथि देवी मां को समर्पित है। कहते हैं इस दिन बाबा भैरव और देवियों की तंत्र पूजा करवाना अत्यंत प्रभावशाली होता है। इस दिन विशेष पूजा कराने से भक्तों को नकारात्मक ऊर्जा से सुरक्षा मिलती है। तांत्रिक परंपराओं में भैरव पूजा को अत्यधिक शक्तिशाली एवं महत्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि देवी की अद्भुत कृपा प्राप्त करने के लिए सबसे पहले भैरव की पूजा करनी चाहिए। यही कारण है कि अष्टमी तिथि भगवान विक्रांत भैरव के साथ सर्वशक्ति मां कामाख्या की पूजा एक साथ कराई जा रही है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार जब भगवान शिव देवी के 51 शक्तिपीठों की स्थापना कर रहे थे तब असुरों को इस बात का भय सताने लगा कि यदि पृथ्वी पर इन शक्तिपीठों की स्थापना हो गयी तो असुरों का विनाश हो जायेगा। जिस कारण सभी असुर इन शक्तिपीठों को खंडित करने के लिए आगे बढ़ने लगे, इस बात को जानकार भगवान शिव ने अपने भैरव अवतार को उन शक्तिपीठों की रक्षा करने के लिए छोड़ दिया। यही कारण है कि देवी के दर्शन एवं उनकी कृपा पाने के लिए पहले बाबा भैरव की आज्ञा लेनी पड़ती है उसके बाद ही देवी की कृपा पाना संभव होता है। देवी के प्रमुख शक्तिपीठों में से गुवाहाटी में स्थित कामाख्या शक्तिपीठ की विशेष मान्यता है, वहीं महाकाल की नगरी उज्जैन में विक्रांत भैरव प्रमुख रूप से विराजमान हैं। इसलिए इन पवित्र स्थलों पर कराई जाने वाली पूजा का विशेष फल प्राप्त करने के लिए माँ कामाख्या तंत्र युक्त यज्ञ एवं काल भैरव अष्टकम स्तोत्र पाठ में श्री मंदिर के माध्यम से भाग लें और देवी मां के साथ विक्रांत भैरव का आशीष पाएं।

पूजा लाभ

puja benefits
नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा
भैरवनाथ को आपत्तियों का विनाश करने वाला देवता कहा गया है। यह भक्तों के आंतरिक एवं बाह्य मौजूद नकारात्मक शक्तियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं। यदि कोई व्यक्ति काले जादू या बुरी नजर से पीड़ित है, तो उसे इससे छुटकारा पाने के लिए काल भैरव अष्टकम का जाप करना चाहिए। वहीं माँ कामाख्या को प्रबल शक्तिशाली नारी ऊर्जा का प्रतिक माना जाता है, इनकी अराधना से ऊपरी बाधा सहित सभी प्रकार की नकारात्मक एवं बुरी शक्तियों से मुक्ति मिलती है।
puja benefits
बाधाओं से सुरक्षा के लिए
भैरव श्मशानवासी हैं। ये भूत-प्रेत, योगिनियों के अधिपति हैं। भक्तों पर स्नेहवान और दुष्टों का संहार करने में सदैव तत्पर रहते हैं। भगवान भैरव अपने भक्तों के कष्टों को दूर कर उन्हें ऊपरी बाधाओं से सुरक्षा प्रदान करते हैं। वहीं मां कामाख्या सिद्धि यज्ञ करने से मनोकामनाओं की पूर्ति में आने वाली बाधाएं और दुविधाएं दूर हो जाती हैं।
puja benefits
स्वास्थ्य लाभ
भगवान भैरव शिव जी का ही रूप हैं। भैरव जी की पूजा परिवार के सदस्यों के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखता है और उन्हें विभिन्न जानलेवा बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है। वहीं मां कामाख्या पूजा से भक्तों को शारीरिक और मानसिक रोगों से मुक्ति मिलती है, जिससे रोग मुक्त होकर स्वस्थ जिंदगी का आशीष मिलता है। अष्टमी तिथि पर होने वाली इस विशेष पूजा में शामिल होकर बटुक भैरव के साथ मां कामाख्या का शुभाशीष पाएं।
puja benefits
धन की प्राप्ति
भगवान भैरव अपने भक्तों को जीवन में अपार धन, यश का आशीष देते हैं। इस विशेष पूजा को करने से भक्तों को जीवन में धन की समस्या नहीं होती है। वहीं मां कामाख्या भी अपने भक्तों को धन की कमी, आर्थिक संकट और निर्धनता आदि से दूर रखती है। इनकी पूजा से व्यापार में होने वाले घाटा, धन हानि दूर होते हैं और घर-परिवार में सदैव सुख, समृद्धि और बरकत बनी रहती है।

पूजा प्रक्रिया

Number-0

पूजा चयन करें

4 विभिन्न पूजा पैकेज ऑप्शन से चयन करें।
Number-1

अर्पण जोड़ें

अपनी पूजा के साथ गौ सेवा, वस्त्र दान, दीप दान भी करें। पूजा के लिए भुगतान करें।
Number-2

संकल्प विवरण दर्ज करें

अपना नाम और गोत्र दर्ज करें।
Number-3

पूजा दिन

अनुभवी पंडितों द्वारा वैदिक प्रक्रिया के अनुसार पूजा होगी। आपको अपने WhatsApp नंबर पर अपडेट्स मिलेंगे।
Number-4

पूजा वीडियो एबं तीर्थ प्रसाद डिलीवरी

अपने पंजीकृत WhatsApp नंबर पर पूजा के 4-5 दिनों में पूजा वीडियो एबं आपके दिए गए पते पर 8-10 दिनों बाद तीर्थ प्रसाद प्राप्त करें ।

शक्तिपीठ मां कामाख्या मंदिर एवं विक्रांत भैरव मंदिर, गुवाहाटी, उज्जैन

शक्तिपीठ मां कामाख्या मंदिर एवं विक्रांत भैरव मंदिर, गुवाहाटी, उज्जैन
पौराणिक कथा के अनुसार महादेव जब माता सती के देह को लेकर इधर उधर घुम रहे थें तब उनको इस प्रकार व्यथित देख ब्रह्माजी के सुझाव पर भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से माता सती के शरीर के खंडन कर दिए। वे अंग जहाँ-जहाँ भी गिरे वो स्थान शक्तिपीठ कहलाया और उन शक्तिपीठ की रक्षा के लिए महादेव ने अपना ही एक रूप, नियुक्त किया जो भैरव कहलाया। यानि प्रत्येक शक्तिपीठ मंदिर में भैरव देव का एक मंदिर समर्पित होता है। यही कारण है कि भैरव की पूजा मां कामाख्या के साथ करने से अत्यंत प्रभावशाली फल प्राप्त होते हैं।

महाकाल की नगरी कहे जाने वाले उज्जैन में अष्ट भैरव का वास है, उन्हीं अष्ट भैरव में से दूसरे नम्बर पर हैं विक्रांत भैरव। यहां भगवान भैरव, भय और विनाश के देवता के रूप में पूजे जाते हैं। यह मंदिर तांत्रिकों और मंत्र साधकों के लिए भी महत्वपूर्ण है, जो यहां अपनी साधना और अनुष्ठान करते हैं। यहां दर्शन और पूजा करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ति एवं नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। गुवाहाटी में विराजित शक्तिपीठ कामाख्या तीर्थ क्षेत्र, 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां देवी सती की 'योनि' पृथ्वी पर गिरी थी तब से माता यहीं कामाख्या के रूप में वास करती हैं। इन दो शक्तिशाली मंदिरों में आयोजित होने वाली इस पूजा में भाग लें और मां कामाख्या के साथ भगवान भैरव का आशीर्वाद प्राप्त करें।

कैसा रहा श्री मंदिर पूजा सेवा का अनुभव?

क्या कहते हैं श्रद्धालु?
User review
User Image

जय राज यादव

दिल्ली
User review
User Image

रमेश चंद्र भट्ट

नागपुर
User review
User Image

अपर्णा मॉल

पुरी
User review
User Image

शिवराज डोभी

आगरा
User review
User Image

मुकुल राज

लखनऊ
User review
User Image

सुनील कुमार सैनी

चंडीगढ़

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों